मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को 57 हजार रूपये की सहायता


मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को 57 हजार रूपये की सहायता

मुरैना 28 सितम्बर 2007 // कलेक्टर श्री आकाश त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को उपचार हेतु 57 हजार रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है ।

       तुलसी कालोनी गणेशपुरा के श्री बनवारी लाल को पुत्री के उपचार हेतु 5 हजार रूपये, फाटक पार मुरैना निवासी श्री रामस्वरूप गुप्ता को स्वयं के इलाज हेतु 20 हजार रूपये , मीरपुर मुरैना निवासी श्रीमती सहजादी को पति के इलाज हेतु 2 हजार रूपये, बल्ला का पुरा जौरा निवासी श्री बच्चूराम जाटव को फेफडों के उपचार हेतु 5 हजार रूपये और श्री सतीश जाटव को आंख के ओपरेशन हेतु 12 हजार रूपये, भोरे का पुरा जौरा निवासी श्री दुर्गाप्रसाद जाटव को फैफडों के उपचार हेतु 3 हजार रूपये, घुरैया बसई जौरा निवासी श्री देवेन्द्र सिंह गुर्जर को उपचार हेतु 10 हजार रूपये तथा सिंघल बस्ती मुरैना निवासी श्रीमती भारती को पति की मृत्यु हो जाने के कारण 5 हजार रूपये की सहायता मंजूर की गई है ।

 

अपनी मध्‍यप्रदेश सरकार – पंचायत सरकार


व्‍यंग्‍य

तो हो ही जाये एक अदद डकैत पंचायत, तय हो जाये डकैत नीति

नरेन्‍द्र सिंह तोमर आनन्‍द

अपनी मध्‍यप्रदेश सरकार पंचायत सरकार

कौन कहे कि मध्‍यप्रदेश में पंचायती राज नहीं है, भले ही पंचायत प्रणाली चाहे त्रिस्‍तरीय हो या पंचम स्‍तरीय बोर्ड परीक्षा वाली भले ही ठप्‍प ठपा ठप ठप्‍प हो गयी है लेकिन पंचायती राज तो मध्‍यप्रदेश में चल रहा ही है, सी.एम. ने जितनी पंचायतें गये साल और चालू साल में निबटाईं हैं उतनी भारत की आजादी से लेकर अब तक नहीं निबटी होंगीं । कन्‍छेदी दादा और मन्‍नू लोहार की पंचायत से लेकर दलित पिछड़ वर्ग तक की पंचायत सी.एम. हाउस में हो चुकी है, कुल जमा कितनी पंचायते बैठ चुकीं और उनके रिजल्‍टस क्‍या आये, भईया अपन को नहीं मालुम लेकिन इत्‍ता जरूर पता है कि खूब सारी हो चुकीं हैं और सरकार में कोई काम आजकल बगैर पंचायत किये हो ही नहीं रहा । ले बेटा अब कैसे कहोगे कि प्रदेश में पंचायती राज नहीं है ।

पहले केवल किसी जमाने में अकेली केबिनेट पंचायत हुआ करती थी अब मन्‍नू लोहार और कन्‍छेदी दादा की पंचायत होती है । गोया मन्‍नू लोहार और कन्‍छेदी दादा सी.एम. के पुराने टायटल हैं सो हर भाषण प्रवचन में इनका नाम आना जरूरी है वरना सी. एम. को लगता ही नहीं कि भाषण हुआ या समाचार छपा । अपना जनसम्‍पर्क संचालनालय सी.एम. पर खासा मेहरबान है कभी कभी सी.एम. जब भाजपा की निजी पार्टी बैठक में भी कन्‍छेदी दादा और मन्‍नू लोहार बोल बैठते हैं तो पार्टी के निजी समाचार भी विभाग से बाकायदा सरकारी नंबर से रिलीज हो जाते हैं । शायद विभाग के सर्च इंजिन में सी.एम. या शिवराज फिट है जो भी कहीं भी बोले निजी या सरकारी, विभाग को रिलीज मारनी ही हैं ।

देखना भईया संचालनालय वालो अंधी भक्ति कबहूं कबहूं बड़ी गहरी चोट देती है सो कहीं ऐसा न हो लग जाये दिल में आग पानी से कहीं सर्च फीड के चक्‍कर में पर्सनल बाथरूमिया रिलीज मत मार देना ।

डकैत पंचायत कब

सी.एम. की पंचायत में डकैतों की पंचायत का नंबर कब आयेगा, इसे लेकर चम्‍बल के डकैत खासे चिन्तित हैं, वे भी चाहते हैं कि कोई नीति बने तो पहले उनसे राय मशविरा हो । कोई तो फिक्‍सड आकलित नीति हो, चम्‍बल के डकैत इस बारे में पहिले क्‍लासिफेकेशन यानि वर्गीकरण चाहते हैं, आखिर जैसे पुलिस में रैंक आलाटमेण्‍ट सिस्‍टम है डकैतों में भी होना चाहिये और सरकार द्वारा घोषित की जाने वाली इनाम इकराम भी डकैतों के रैंक स्‍टेटस के अनुसार ही होना चाहिये इसके अलावा कम से कम छ: माह पहले घोषित इनामो इकराम ही वैध मान्‍य होना चाहिये अभी तो ये हो रहा है कि पहले डकैत पकड़ या मार लिया जाता है और उसके बाद इनाम इकराम बढ़ा बढ़ू कर उसे बाद में पकड़ा या मारा घोषित किया जाता है, अब भई ये तो डकैत पंचायत में ही तय हो सकेगा कि डकैतों के अधिकारों का उल्‍लंघन हो रहा है कि नहीं ।

चम्‍बल में एक और रिवाज है जैसे डकैत कह देते हैं कि मार देंगें, ठोक देंगें, जिन्‍दा नहीं रहने देंगें वगैरह वगैरह अब चम्‍बल की पुलिस भी इसी भाषा में बोलती है कि छोड़ेगे नहीं, आत्‍मसमर्पण नहीं करने देंगें, मार देंगें, ठोक देंगें वगैरह वगैरह गोया खाकी वर्दी किसी को पकड़ कर कानून के हवाले करने के लिये नहीं बल्कि हरेक को ठोक देने, मार देने के लिये पहनाई गई है, और मारने का उन्‍हें जन्‍मसिद्ध अधिकार मिल गया है । अब डकैत वर्दी वाले और बिना वर्दी वाले, जंगल बीहड़ वाले और सरकारी बंगलो वाले इनमें कोई फर्क तो कम से कम होना ही चाहिये अब भई ये फैसला तो डकैत पंचायत में ही हो सकेगा न ।

डकैतों को एक और नीति पर बात करनी है कि पुलिस किसी भी छिछोरे, चोर उचक्‍कों को डकैत कह देती है और इनामो इकराम के लिये ठोक देती है, आखिर यह तो तय होना ही चाहिये न कि डकैती आखिर कहॉं डाली और कितनी डाली, पुलिस तो चार आदमी से ज्‍यादा कहीं से भी पकड़ कर एक समाचार छपवा देती है कि डकैती की योजना बनाते पॉंच पकड़े । अब भई पुलिस की डेफीनेशन में वे भी डकैत हैं चाहे कहीं डकैती नहीं ठोकी हो, और योजना बनाने का क्‍या कोई सबूत कभी होता है ।

डकैत मानव होते हैं कि नहीं, उनके मानव अधिकार होते हैं कि नहीं ये प्‍वाइण्‍ट भी डिस्‍कस होना है, फिलवक्‍त मुरैना की अदालत तो मानव अधिकार को मानती नहीं, जेल में किसी की पिटाई हुयी वह गंभीर रूप से घायल होकर अस्‍पताल में पहुंचा और मर गया या जेल ही मर गया, गोया अदालत को समझ ही नहीं आया कि कौनसा मानव अधिकार उल्‍लंघन हुआ ।

सो भईया शिवराज पंचायतों के इस अदद मौसम में लगे हाथ एक डकैत पंचायत बुलवा डालो, पाप्‍युलर भी हो जाओगे और डकैत चुनाव में काम भी आयेंगे ।                           

 

मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को 57 हजार रूपये की सहायता


मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को 57 हजार रूपये की सहायता

मुरैना 28 सितम्बर 2007 // कलेक्टर श्री आकाश त्रिपाठी ने मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से आठ हितग्राहियों को उपचार हेतु 57 हजार रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की है ।

       तुलसी कालोनी गणेशपुरा के श्री बनवारी लाल को पुत्री के उपचार हेतु 5 हजार रूपये, फाटक पार मुरैना निवासी श्री रामस्वरूप गुप्ता को स्वयं के इलाज हेतु 20 हजार रूपये , मीरपुर मुरैना निवासी श्रीमती सहजादी को पति के इलाज हेतु 2 हजार रूपये, बल्ला का पुरा जौरा निवासी श्री बच्चूराम जाटव को फेफडों के उपचार हेतु 5 हजार रूपये और श्री सतीश जाटव को आंख के ओपरेशन हेतु 12 हजार रूपये, भोरे का पुरा जौरा निवासी श्री दुर्गाप्रसाद जाटव को फैफडों के उपचार हेतु 3 हजार रूपये, घुरैया बसई जौरा निवासी श्री देवेन्द्र सिंह गुर्जर को उपचार हेतु 10 हजार रूपये तथा सिंघल बस्ती मुरैना निवासी श्रीमती भारती को पति की मृत्यु हो जाने के कारण 5 हजार रूपये की सहायता मंजूर की गई है ।

 

 

जिला सैनिक अस्पताल में चौबीस घंटे आपात कालीन सेवा उपलब्ध रहेगी


जिला सैनिक अस्पताल में चौबीस घंटे आपात कालीन सेवा उपलब्ध रहेगी

मुरैना 28 सितम्बर 2007// राज्य शासन के लोक स्वस्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के आदेशानुसार जिला एवं सिविल अस्पतालों में 24 घंटे आपात कालीन सेवा उपलब्ध कराई जायेगी । इसके लिए अस्पताल अधीक्षक द्वारा तीन शिफ्ट वाला रोस्टर तैयार किया जायेगा ।

       सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डा. आर.सी. वांदिल के अनुसार अस्पताल का वाह्यरोगी, अन्त: रोगी और क्लीनिक जांच विभाग प्रात: 9 बजे से सांय 4 बजे तक खुलेगा । दोपहर 1.30 बजे से 2 बजे तक भोजन अवकाश रहेगा । पैथोलोजी जांच हेतु फास्ंटिग सेम्पल कलेक्शन लेने के लिए रोटेशन से लेव टेक्नीशियन की डयूटी प्रात: 8 बजे से रहेंगी। आपात कालीन मामलों में संबधित चिकित्सा अधिकारी अपने रोगियों को नियमित अटेण्ड करेंगे तथा जिन चिकित्सकों के प्रभार में पलंग हैं, वे प्रात: और सांय काल दोनों समय वार्ड में राउंड लेंगें । विशेषज्ञों सहित सभी चिकित्सा अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि वाह्यरोगी विभाग में प्रतिदिन आने वाले रोगी का आवश्यक रूप से परीक्षण कर लिया जाय ।

 

दिल्ली में भूतपूर्व सैनिकों की बालिकाओं को ठहरने की सुविधा


दिल्ली में भूतपूर्व सैनिकों की बालिकाओं को ठहरने की सुविधा

मुरैना 28 सितम्बर 2007 // जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ले. कर्नल श्री आर.एम. शर्मा के अनुसार भूतपूर्व सैनिकों की कॉलेज जाने वाली बालिकाओं को ठहरने की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु राव तुला राम मार्ग सिंगनल इन्कलेव के सामने दिल्ली कैन्ट में आवा वोमेन हॉस्टल संचालित किया गया है । इच्छुक भूतपूर्व सैनिक इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं ।

 

हज यात्रियों के लिए पोलियों खुराक लेना जरूरी


हज यात्रियों के लिए पोलियों खुराक लेना जरूरी

मुरैना 28 सितम्बर 2007 // मध्य प्रदेश स्टेट हज कमेटी के सचिव श्री नुसरत मेंहदी के अनुसार मुरैना जिले से इस वर्ष दो हज यात्री हज यात्रा पर जा रहे हैं । मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. एच.एस. शर्मा ने बताया कि हज यात्रियों को पोलियों ओरल खुराक देने के लिए जिला चिकित्सालय मुरैना के टीकाकरण कक्ष में प्रात: 9 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक व्यवस्था की गई है । टीकाकरण पश्चात हज यात्रियों को निशुल्क प्रमाण पत्र जारी किया जायेगा । मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा.शर्मा और जिला टीकाकरण अधिकारी डा. जी.एस. तोमर ने हज यात्रियों से हज पर जाने से पहले ओरल पोलियों बैक्सीन की दों बूंद पीकर जाने की अपील की है।

 

क्षय रोग जांच हेतु डॉट सेन्टर का शुभारंभ


क्षय रोग जांच हेतु डॉट सेन्टर का शुभारंभ

मुरैना 28सितम्बर 2007// पुनरीक्षित राष्ट्रीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के अन्तर्गत डॉट्स प्रणाली से क्षय रोग की जांच करने, उपचार से संबंधित जानकारी देने और क्षय रोग की औषधि वितरित करने के लिए जिला चिकित्सालय परिसर में डॉट सेन्टर प्रारंभ किया गया है । इस डॉट सेंन्टर का शुभारंभ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. एच.एस. शर्मा द्वारा किया गया । इस अवसर पर प्रशासक जिला चिकित्सालय श्री बी.के. शर्मा, सिविल सर्जन डा. आर.सी. बांदिल, जिला क्षय अधिकारी तथा अन्य चिकित्सक और गणमान्य नागरिक थे।

 

खरंजा निर्माण हेतु 2 लाख रूपये मंजूर


खरंजा निर्माण हेतु 2 लाख रूपये मंजूर

मुरैना 28 सितम्बर 2007 // कलेक्टर श्री आकाश त्रिपाठी ने विधायक सबलगढ़ श्री मेहरवान सिंह रावत की अनुशंसा पर ग्राम खिरका में पत्थर खरंजा निर्माण हेतु 2 लाख रूपये की प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की है । स्वीकृत कार्य संबधित ग्राम पंचायत के सरपंच द्वारा कराया जायेगा ।

 

मूल्यांकन प्रपत्रों का परीक्षण आज


मूल्यांकन प्रपत्रों का परीक्षण आज

मुरैना 28 सितम्बर 2007// विशेष महिला पढ़ना-बढ़ना अभियान के द्वितीय चरण के अन्तर्गत 29 सितम्बर को प्रवेशिका भाग-1 के मूल्यांकन प्रपत्रों का परीक्षण किया जायेगा ।

       सचिव जिला साक्षरता समिति श्री जंण्डेल सिंह गुर्जर के अनुसार प्रवेशिका भाग-1 पूर्ण करने वाली महिलाओं का मूल्यांकन कार्य स्थानीय ग्राम प्रभारी द्वारा कराया जा चुका है । मूल्यांकन प्रपत्रों का परीक्षण 29 सितम्बर को किया जायेगा । मूल्यांकन का परिणाम 1 अक्टूबर को ग्राम प्रभारी द्वारा जन शिक्षक को प्रस्तुत किया जायेगा तथा 2 अक्टूबर को जन शिक्षक अपने जन शिक्षा केन्द्र का मूल्यांकन परिणाम खण्ड समन्वयक को प्रस्तुत करेंगे । खंड समन्वयक संकलित जानकारी जिला कार्यालय को उपलब्ध करायेंगें । मूल्यांकन कार्य में किसी भी  स्तर की लापरवाही को गंभीरता से लिया जायेगा ।

 

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की अंतिम सूची जारी


आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की अंतिम सूची जारी

मुरैना 28 सितम्बर 2007 //एकीकृत बाल विकास परियोजना जौरा में जारी अनंतिम सूची के आधार पर प्राप्त आपत्तियों के निराकरण पश्चात जिला स्तरीय आपत्ति निराकरण समिति के अनुमोदन अनुसार आंगनवाडी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की नियुक्ति हेतु अंतिम सूची जारी कर दी गई है ।

       जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्रीमती उपासना राय के अनुसार परियोजना जौरा में आंगनवाडी कार्यकर्ता के पद पर वार्ड क्रमांक 1 में श्रीमती हुसना कुर्रेशी चयनित औरकु. सुमन शाक्य प्रतीक्षारत, 2 में श्रीमती विशनदेई चयनित और श्रीमती ममता कुशवाह प्रतीक्षारत, 3 में कु. मनोरमा शर्मा चयनित और श्रीमती सुनीता शाक्य प्रतीक्षारत, 4 में श्रीमती रामू शर्मा चयनित और श्रीमती गीता भटनागर प्रतीक्षारत, 5 में श्रीमती पुष्पा यादव चयनित और श्रीमती तवस्सुम कुर्रेशी प्रतीक्षारत, 6 में श्रीमती सुलेखा कुलश्रेष्ठ चयनित और कु. रजनी शर्मा प्रतीक्षारत, 7 में श्रीमती मीरा शर्मा और 8 में श्रीमती बबीता सिंघल चयनित, 9 में श्रीमती रीना त्यागी चयनित और श्रीमती रेखा शर्मा प्रतीक्षारत, 11 में श्रीमती शीतल शर्मा चयनित और श्री माधुरी कटारे प्रतीक्षारत, 12 में श्रीमती सुमन तिवारी चयनित और श्रीमती पुष्पा कुलश्रेष्ठ प्रतीक्षारत, 13 में कु.सुधा तिवारी चयनित और श्रीमती सुनीता श्रीवास्तव प्रतीक्षारत, 14 में श्रीमती रीना राजावत चयनित और श्रीमती सुधाजैन प्रतीक्षारत, 15 में कु. मनीषा मेहरा चयनित और कु. मधु मांझी प्रतीक्षारत, 16 में श्रीमती ममता शर्मा, 18 में श्रीमती प्रीती गोड चयनित और श्रीमती लक्ष्मी सविता प्रतीक्षारत, हरिभान का पुरा में कु. पिंकी शाक्य, जनवेद का पुरा में श्रीमती सीमा यादव, उदवंत का पुरा में श्रीमती आरती शर्मा, झील का पुरा में श्रीमती साधना तोमर और जगन्नाथ पुरा में श्रीमती दिव्या कुलश्रेष्ठ चयनित, जाहर सिंह का पुरा में श्रीमती निर्मला जाटव चयनित और श्रीमती आशा सिकरवार प्रतीक्षारत, शुकलू का पुरा में श्रीमती उर्मिला कुशवाह चयनित और श्रीमती आरती प्रतीक्षारत, सरदारपुरा में श्रीमती अंजना कुशवाह और मलिकपुर में श्रीमती कृष्णा शर्मा चयनित हुई हैं । 

       इसी प्रकार सहायिकाओं के पद हेतु वार्ड 1 में श्रीमती अर्चना श्रीवास्तव चयनित, 2 में श्रीमती सुनीता पठारिया चयनित और श्रीमती नीता शर्मा प्रतीक्षारत, 3 में श्रीमती रेखा शाक्य चयितन और श्रीमती अनीता मांझी प्रतीक्षारत, 6 में श्रीमती पूनम देवी वर्मा और 9 में श्रीमती मीरा सविता चयनित, 11 में श्रीमती नमा ताई चयनित और श्रीमती मनोज शर्मा प्रतीक्षारत, 13 में श्रीमती सुनीता और 16 में श्रीमती शांति कुशवाह चयनित, 17 में श्रीमती सरोज रजक चयनित और श्रीमती मुमताज बानो प्रतीक्षारत, 18 में श्रीमती बेबी चयनित और श्रीमती अनुपमा शर्मा प्रतीक्षारत, हरिभान का पुरा में श्रीमती सुनीता शाक्य चयनित और श्रीमती रेखा प्रतीक्षारत, गाढे का पुरा में श्रीमती गीता यादव चयनित और श्रीमती सीमा कोरी प्रतीक्षारत, जनवेद का पुरा में श्रीमती विमला कुशवाह , झील का पुरा में श्रीमती अंजू तोमर और छतरपुरा में श्रीमती मिथलेश चयनित , जाहर सिंह का पुरा में श्रीमती मीना चयनित और श्रीमती रेनू प्रतीक्षारत, मोधनी में श्रीमती मनीषा और भगतपुरा में श्रीमती रामहेती कुशवाह चयनित की गई है ।

 

« Older entries

%d bloggers like this: