** बुरे फसे ** -सुहेलउद्दीन-


** बुरे फसे **

-सुहेलउद्दीन-

सेठ जी पड़ गऐ जब बीमार,

चोरी हो गई उनकी कार।

पहूचे थाने, रपट लिखाने

बोले दरोगा-कया है बात ?

किससे हो गई, घूंसा-लात

सेठ जी बोले. चोरी हो गई कार

रपोट लिखो , मेरी सरकार….

बोले दरोगा- थोडा सा कुछ पुण्य कमाओं

रपोट लिखूगा भेंट चढ़ाओं।

सेठ जी बोले पहिले मिल जाऐ मेरी कार ,

भेंट चढेंगी तब सरकार…

चिड़ा दरोगा, बोला सेठ

देखूगा तू मत दे भेंट

गाडी नम्बर नाम बताओ,

सेठ जी बोले विन पहिओ के खड़ी हुई थी,

सीटे- बॉडी सड़ी हुई थी।

चार के पीछे, आठ-अठरह,

मिली दहेज में, मुझे खटरा

बोले दरोगा-अब तेरे बज गए बारह,

दहेज एक्ट की, लगेगी धारा

सेठ जी बोले-गलती हो गई माई-बाप।

जो लेना है ले लो आप

बोले दरोगा-कार की कीमत जितनी भाई

भेंट लगेगी एक चौथाई

सेठ जी बोले.. कार मिली न रपट लिखाई,

फिर भी लग गई एक चौथाई।

बोले दरोगा- रखता हूं मैं तेरी भेंट।

लम्बा हो ले…. अब… तू सेठ…

सेठ जी बोले. घर लुटे या लुटे लुगाई

अब नहीं आना थाने भाई

-सुहेलउद्दीन-

बानमोर जिला मुरैना

//pagead2.googlesyndication.com/pagead/js/adsbygoogle.js (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: