जब दिल में उल्फत हो , दूर दूर तक ना नफरत हो , तब होती है ऐसी यारी रिश्तेदारी


24032016001

जब दिल में उल्फत हो , दूर दूर तक ना नफरत हो , तब होती है ऐसी यारी रिश्तेदारी
And Something Special for You. This Holi Special . The Super Popular Baaghi Sardar of Chambal Late. Madho Singh ( Madho Singh – Mohar Singh Giroh) Son, Mr. Sahdev Singh Bhadoriya Playing Holi with Me. … A super Shot at my House. होली विशेष : चम्बल के मशहूर बागी सरदार स्व. माधौ सिंह ( माधौ सिंह – मोहर सिंह गिरोह) के बागी सरदार स्व. माधौ सिंह के सुपुत्र श्री सहदेव सिंह भदौरिया के साथ अबकी बार खेली गई हमारी होली का एक सुपर चित्र – यूं कि ये रंग रोगन सहदेव सिंह को हमीं ने पोता है .. जरा दिल से , जरा तबियत से – नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” , मुरैना म.प्र.

 

कन्हैया कुमार के विरूद्ध ग्वालियर न्यायालय में आपराधि‍क मामला पेश , परिवाद पर सुनवाई 21 मार्च को


कन्हैया कुमार के विरूद्ध ग्वालियर न्यायालय में आपराधि‍क मामला पेश , परिवाद पर सुनवाई 21 मार्च को
ग्वालियर , 14 मार्च 2016 , वाहर लाल नेहरू विश्व विद्यालय के कन्हैया कुमार के विरूद्ध एडवोकेट अवधेश सिंह भदौरिया की शि‍कायती क्रिमिनिल परिवाद पत्र पर , दिल्ली के कन्हैया कुमार के विरूद्ध भारतीय सेना के मामले में आपराधि‍क व राष्ट्राद्रोही टीका टिप्पणी , बयानादि को लेकर , ग्वालियर न्यायालय ने कन्हैया कुमार के विरूद्ध केस दर्ज किया है । इस क्रिमिनस केस की अगली सुनवाई 21 मार्च को होगी ।
ज्ञातव्य है कि कन्हैया कुमार के विरूद्ध इंदौर न्यायालय में भी एक क्रिमिनल कंपलैण्ट परिवाद पत्र के रूप में एडवोकेट अमित सिंह सिसोदिया द्वारा प्रस्तु की गयी है , जो कि देश में और न्यायालय में अशांति फैलाने , भड़काऊ भाषण आकद देने तथा लोगों की आस्थाओं व निजी धार्मिक विश्वास पर हमला करने व चोट पहुँचाने को लेकर दायर किया गया है , एकाध दिन में यह मामला भी गैर जमानती संज्ञेय अपराध के रूप में रजिस्टर होने वाला है ।
सुनने में आ रहा है कि ऐसा ही कोई क्रिमिनल केस परिवाद पत्र कन्हैया कुमार व उसके समर्थकों के विरूद्ध चम्बल की एक अदालत में अन्य आपराधि‍क कारणों पर प्रस्तुत किया जाने वाला है । या संभवत: सीधे ही पुलिस में एफ.आई. आर. दर्ज कराई जा सकती है ।
ऐसी सूरत में कन्हैया कुमार व उसके समर्थकों को देश भर की अलग अलग जेलों में डिटेन्शन में राजबन्दी के रूप में रखा जा सकता है , जहॉं हर जगह से उसे अलग जमानत लेनी अनिवार्य होगी । क्रिमिनल केसों की राजनीतिक सूरत ऐसी है कि यदि अन्य राज्यों में भी कुछ प्रकरण दर्ज हुये तो , कन्हैया कुमार व उसके साथि‍यों को जमानत लेने में पसीने छूट जायेंगें , कानूनन तब जमानत संभव नहीं होगी । कन्हैया का समर्थक की परिभाषा में प्रत्यक्षत: व अप्रत्यक्षत: या किसी सोशल मीडिया या व्हाटस एप्पादि के जरिये समर्थन देने व देशद्रोहात्मक या राष्ट्रविरोधी कन्हैया कुमार का किसी भांति समर्थन किया है ।

जिला गौपालन एवं पशु संवर्धन समिति मुरैना की बैठक 16 मार्च को


जिला गौपालन एवं पशु संवर्धन समिति मुरैना की बैठक 16 मार्च को
मुरैना 14 मार्च , ग्वालियर टाइम्स , कलेक्टर मुरैना की अध्यक्षता में , शाम 4 बजे जिला गौपालन एवं पशु संवर्धन समिति मुरैना की बैठक का आयोजन कलेक्टर सभाकक्ष में रखा गया है , जिसमें 4 बिन्दु का एजेण्डा चर्चा हेतु रखा गया है, 1. 9 दिसम्बर 2015 को संपन्न बैठक में लिये गये निर्णयों का अनुमोदन ??  2. जिले में संचालित पंजीकृत गौशालाओं के सम्बन्ध में चर्चा । 3. पंजीकृत गौ शालाओं को आर्थ‍िक सहायता उपलब्ध कराने संबंधी चर्चा । 4. अध्यक्ष की अनुमति से अन्य विषयों पर चर्चा ।

मिलावटखोरी , कालाबाजारी के गढ़ मुरैना में कल होगी , एक दिन में भैस का दूध पिलाने की कवायद , कल मनायेगा हमेशा से कुम्भकर्ण की नींद सो रहा और सांड़ की तरह लगामहीन खाद्य विभाग ” उपभोक्ता जागरूकता दिवस”


मिलावटखोरी , कालाबाजारी के गढ़ मुरैना में कल होगी , एक दिन में भैस का दूध पिलाने की कवायद , कल मनायेगा हमेशा से कुम्भकर्ण की नींद सो रहा और सांड़ की तरह लगामहीन खाद्य विभाग ” उपभोक्ता जागरूकता दिवस”
ऐ जाने तुझे एक दिन जगा देंगें जिगर तू जागते रहना उसके बाद साल के पूरे 364 हमें जमकर खुर्राटे लगा कर सोना है , जाति देखकर , जगह देखकर , आसामी देखकर चरेंगें , जुगाली करते रहेंगें । तू सो गया या जाग रहा है यह कभी पता न लगायेंगें ।
मुरैना, 14 मार्च , ग्वालियर टाइम्स, कल दिनांक 15 मार्च 2016 एम.एस.रोड जनपद पंचायत मुरैना के सभाकक्ष में ”विश्व उपभोक्ता संरक्षण दिवस ” मनाये जाने हेतु दोपहर दोपहर 12 बजे कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है । जिसमें उपभोक्ताओं के हितों एवं उनके अधि‍कारों की जागरूकता हेतु संबंधि‍त विभागों के अधि‍कारीयों द्वारा विभागीय योजनाओं / संवाओं की जानकारी दी जायेगी ।

मशहूर फिल्म अभि‍नेत्री आभा परमार ने लाइक कीं कई पोस्ट नरेन्द्र सिंह तामर ”आनन्द” की


मशहूर फिल्म अभि‍नेत्री आभा परमार ने लाइक कीं कई पोस्ट नरेन्द्र सिंह तामर ”आनन्द” की
ग्वालियर टाइम्स , 14 मार्च 2016 , ग्वालियर की मूलत: निवासी और ख्याति नाम मशहूर फिल्म अभि‍नेत्री आभा परमार ने आज फेसबुक के ग्रुप चम्बलघाटी में नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” की कई पोस्ट और वीडियो , एक साथ लाइक किये , जिसमें उनका महाभारत योद्धा अर्जुन के वंशज होने एवं आरक्षण पर जारी वीडियो भी शामिल है ।
उल्लेखनीय है कि मूलत: ग्वालियर की निवासी आभा परमार अनेक बड़े बैनर की फिल्मों जिसमें अमिताभ बच्चन की मशहूर फिल्म ”मैं आजाद हूँ ” तथा अन्य अनेक बड़े हीरोज की फिल्में शामिल हैं , में काम कर चुकीं हैं , इसके साथ ही वर्षों से वे टी.वी. की मशहूर एक्ट्रेस भी हैं , और उनके तमाम सीरियल दूरदर्शन सहित तमाम चैनलों पर आ चुके हैं जिसमें बंगाली पृष्ठभूमि पर प्रसिद्ध सीरियल , चन्द्रकान्ता , सहित सैकड़ों टी.वी. सीरियल शामिल हैं , दोपहर में दूरदर्शन पर दिखाये जाने वाले ”घण्टा प्रसाद , घण्टा वाले” में भी एक प्रमुख में नजर आईं ।
यह भी स्मरणीय है कि आभा परमार और नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” न केवल एक साथ ही एक ही स्कूल में ग्वालियर में पढ़े हैं और केवल एक कक्षा जूनियर व सीनियर रहे हैं , बल्क‍ि ग्वालियर में आकाशवाणी ग्वालियर से कई सुपर हिट कार्यक्रम भी साथ साथ दे चुके हैं , अनेक ड्रामा व नाटकों में साथ साथ काम कर चुके हैं । एक्टिंग के अनेक मैडल्स भी साथ साथ जीत चुके हैं , आभा परमार और नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” दोनों एक दूसरे के स्कूल के समय से फेन रहे हैं , आभा परमार ग्वालियर से लेकर बंबई और मुंबई तक का लंबा सफर तय करके अभि‍नय की दुनियां की , फिल्मी व टी.वी. पर्दे की आज बहुत बड़ी स्टार हैं , जबकि नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” वहीं अपने ग्वालियर चम्बल में जहॉं की तहॉं जमे और डटे हैं ।
आभा परमार की फेसबुक के चम्बलघाटी ग्रुप में ढेर सारी लाइकिंग से प्रसन्न नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” ने केवल इतना कहा कि , जब हम आमने सामने कभी मिलेंगें , सही आनंद तो उस दिन आयेगा , लेकिन आभा ने अपनी व्यस्तता में से समय निकाल कर भी फेसबुक पर न केवल हमें जमकर पढ़ा वरन फिल्म दुनियां के नामी गिरामी हस्त‍ियों , हीरोज व हीरोइन को भी लगातार हमारी इसी तारतम्य में रखा और चंबल पर पान सिंह तोमर पर बरसों पहले लिखी हमारी एक आलेखनुमा स्टोरी पर पूरी फिल्म ”पान सिंह तोमर” ही बनवा दी , इसके लिये हम आभा के कृतज्ञ व आभारी हैं । आभा ने बंबई में ग्वालियर और चम्बल को जिन्दा रखा , यहॉं की भाषा व संस्कृति को जिन्दा रखा , यह हमारे लिये फख्र की बात है ।

Abha Parmar

भारत सरकार के माननीय केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ , सांसद , जयपुर ग्रामीण क्षेत्र .


http://gwlmadhya.blogspot.in/2016/03/blog-post_82.html

 

All India Broadcasted By : भारत सरकार के माननीय केन्द्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ , सांसद , जयपुर ग्रामीण क्षेत्र . Through Gwalior Times.

– नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”
( वर्ल्ड वाइड ब्राडकास्ट बाइ ग्वालियर टाइम्स )
* https://gwaliortimes.wordpress.com/
* http://gwlmadhya.blogspot.in/
* http://morenachambal.blogspot.in/
* http://bhindgt.blogspot.in/
* ऐ दुश्मन तुझे डरने की जरूरत क्या है, तू आगे है और हम गोली पीछे चला रहे हैं , शेरों का क्या , कुत्ता भी हो सामने , पत्थर आगे नहीं , हम तो पीछे को फेंक रहे हैं
…………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………

Download Linkedin Application
https:lnkd.in/bBQQX7d/

IMG-20160314-WA0152

हमें लौटना होगा दोबारा पुरानी ग्रामीण अर्थव्यवस्था की ओर – नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”


हमें लौटना होगा दोबारा पुरानी ग्रामीण अर्थव्यवस्था की ओर
………………………………………………………………………..
– नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”
काफी चिन्तन के बाद एक निष्कर्ष तो लगभग तय है कि तथा कथि‍त अर्थशास्त्रीयों द्वारा तय की गई आधुनिक व आज की भारतीय अर्थव्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है , यद्यपि अर्थव्यवस्था के भूमंडलीकरण ( ग्लोबलाइजेशन) और रूपये का प्रसार व फैलाव बढ़ाना तो ठीक बात है लेकिन इसके कारण बढ़ती मुद्रा स्फीति का बेलगाम होना और देश भर में मंहगाई का सुरसा के मुँह की तरह फैलना बेशक ही सोचनीय व चिन्तनीय बात है और इस जगह आकर ही आप साबित कर देते हैं कि भारत की प्राचीन ग्रामीण अर्थव्यवस्था संबंधी प्रणाली बेहद पुख्ता और सुदृढ़ रही है जिसमें मुख्य विनिमय आधार पारस्परिक सेवा विनिमय या वस्तु विनिमय रहा है और बीच में ”रूपया” जैसे माध्यम के लिये बहुत ही संकीर्ण और लगभग ” ना” के बराबर स्थान रहा है । जब से अर्थव्यस्था के सुदृढ़ीकरण के नाम पर बीच में माध्यम यानि ”रूपया” डाला गया है, तब से बेशक ही तथाकथि‍त विदेशों में जाकर पढ़ लिख कर समय व धन बर्बाद करके आये अर्थशास्त्री देश के लिये या भारतीय अर्थव्यवस्था के लिये स्वत: ही अपरिचित , अन्जाने एवं अप्रासंगिक हो गये और उनके लिये यह भारत देश एक अर्थशास्त्र के प्रयोगों को करने की प्रयोगशाला मात्र बनकर रह गया । प्रयोगधर्मिता व ”विकासशील” के नाम पर किये गये सारे ही प्रयोग भारत के ढांचे के अनुसार असफल और विनाशकारी ही सिद्ध हुये , हमने मुद्रास्फीति बढ़ाकर हमेशा सोचा कि हम विकास दर बढ़ा कर आगे जा रहे विकासशील देश हैं और कभी सोचा कि हम मुद्रास्फीति घटा कर विकास दर बढ़ा रहे हैं , आदमी की या साधारण आदमी की क्रय शक्त‍ि घटाते बढ़ाते रहने के फार्मूले में हमने इतने कीमती वर्ष गंवा दिये और आज हम अपने देश को गंवा देने और विदेशी धन के देश में विनियोग की या किसी भीख मांगते भि‍खारी की तरह दयनीय हालत में पहुँच चुके हैं । आज प्रदेशों व राज्यों की हालत बहुत नाजुक एवं खस्ता है , वे किसी अमीर उद्योगपति या औद्योगिक घरानों के तलुये चाट चाट कर पूरा राज्य लाल कारपेट बिछा कर उसे बदले में देने को तैयार हैं भले ही विधि‍ की सत्ता की यह अवधारणा हो कि ”राज्य जनता व वहॉं रहे प्रत्येक प्राणी की अमूल्य निधि‍ व संपत्त‍ि है, लेकिन राजनेताओं को विधि‍ की सत्ता की इस अवधारणा से कुछ लेना देना नहीं , वे अपने बाप का माल समझ कर पूरे प्रदेश को जैसे चाहे जिसे चाहे , जब चाहें सौंप देते हैं , इसके लिये उन्हें लगता है कि जनता ने उन्हें 5 साल के लिये खुद को और खुद की सारी निधि‍यों व संपत्त‍ि को ( जिसमें जनता की सामूहिक व निजी व्यक्त‍िगत प्रतिष्ठा एवं सम्मान भी शामिल है) किसी को भी सौंप देने का लायसेन्स दे दिया है और वे सब कुछ कर सकते हैं । उनकी अज्ञानता , अनुभवहीनता व विशेषज्ञता हीनता उन्हें स्वयं कुछ सोचने समझने विचारने की शक्त‍ि से विहीन करके उन्हे किराये के टट्टू सुझाव देने वाले सलाहकार या किसी अन्य बैसाखी लगा कर चलने वाले पंगु व मतिहीन की तरह बाध्य कर देती है । लिहाजा पहले तो इसका उसका परामर्शदाता , सलाहकार सुझाव मंडल , परामर्शदाता मंडल चाहिये , यानि कि आपके पास स्वयं का दिमाग नहीं और ऊपर से आप चीख चीख कर साबित करते हैं कि आपके आसपास खड़ी करोड़ों कर्मचारीयों और अफसरों से भरी पड़ी , सातवें वेतनमान ( जनसंपत्ति‍ ) से पल पोस कर बढ़ रही पूरी की पूरी फौज बेमतलब की , नाकारा व मतिहीन , दिमाग विहीन तथा योजना परियोजना विहीन , वैसे ही यूं ही नियुक्त कर लिये गये गधों व टट्टूओं की फौज है , लिहाजा हर काम के लिये आपको कंसल्टैण्ट चाहिये , फिर ये सरकारी अफसरों व कर्मचारीयों की अनावश्यक सरकारी सातवें वेतनमान की इस फौज का मतलब भी क्या है , हटाइये इसे और कंसल्टैण्ट ही पालिये , कुल मिलाकर धारणा अवधारण तोड़कर पूरी तरह से पंगु हो चुकी राजनीति में आज हालत इतनी दयनीय व नाजुक है कि हर कोई यानि कि राज्य सरकार से लेकर देश की सरकार तक किसी न किसी को यह देश दे देने या सौंपने को हर पल तैयार है ।
पूर्णत: आश्रित स्थति से गुजर रहा आज की तारीख में यह भारत देश अभी तक ”विकासशील ” देश है , जबकि सच कुछ अलग व जुदा है , भारत तो बर्षों वर्ष पहले से विकसित देश रहा है और पूरे विश्व का पालनहार देश रहा है , पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था का हजारों लाखों साल तक संचालन कर चुका देश है । विकासशील तो 70 साल का बुढ्ढा भी सदा रहता है वह 71 की ओर बढ़ रहा विकासशील है और 69 की तुलना में वह विकसित है , हम हमेशा बगल वाले किसान के खेत की फसल देख कर ही उसे उन्नत समझते आये हैं औ और वह किसान हमारे खेत की फसल देख कर हमें उन्नत समझता रहा है लेकिन शब्द विकासशील का तात्पर्य है अपने से बड़े की ओर देखना व हमेशा खुद को विकासशील कहना , विकसित का अर्थ है हमेशा अपने से छोटे की ओर देखना और खुद को विकसित कहना, हमने अपनी नसों में या तथाकथि‍त अर्थशास्त्रीयों ने देश को इतनी दयनीय व नाजुक हालत में पहुँचा दिया है कि हम हमेशा ही ”विकासशील” देश ही बने रहेंगें और कभी विकसित देश नहीं बन पायेंगें , दूसरी भाषा में इसे ही 99 का फेर कहा जाता है , जो हमेशा पूरे 100 होने की प्रतीक्षा में सदैव ही ”विकासशील” बना रहता है और वह कभी पूरा 100 नहीं बन पाता ।
जिहाजा कुल मिला कर जाहिर है कि जिन मस्त‍िष्क विहीन पंगु राजनेताओं ने पूरे के पूरे देश को ही प्रयोगशाला बना कर बर्बादी के कगार में इस कदर झोंक दिया हो कि उस देश में सरकारें वस्तुत: निर्वाचित नेताओं के हाथ में नहीं , बल्क‍ि किसी व्यापारिक व्यक्ति‍यों द्वारा या औद्योगिक घरानों के विनियोग या कुछ दे देने के लिये 24 घंटे भीख मांगने की हालत में पहुँच चुकी हों और प्रदेश व देश बेच देने के लिये पूरी तरह आतुर व रहम की पात्र बन चुकीं हों , बेशक जहॉं तीन चार पीढ़ीयां पूरी तरह से बेरोजगार बैठीं हों , जिनके घरों का पालन पोषण बाप या दादा की पेंशन पर आश्रित होकर चल रहा हो , उन्हें कितना और बातों के बतासे बांट कर बहला बहला कर ये राजनेता वक्त गुजार सकेगें यह तो वही जानें , किन्तु इतना तो जाहिर है कि असल बेरोजगारी देश में 90 फीसदी से ऊपर जा चुकी है और पेंशनधारी भी कब तक जिन्दा रहेंगें , कब तक इस देश में लोगों के चूल्हे पेंशन पर जलते रहेंगें , एक आदमी की पेंशन में आठ दस लोग जिन्दा हैं , यह दशा कब तक इस देश में बनी रहेगी । यह तो ईश्वर ही जाने मगर यह तो जाहिर है कि इंतहा की भी सरहदें समाप्त हो चुकीं हैं और आने वाले दौर में या वक्त में कुछ ठोस नहीं हुआ तो भारत को जो कि आतंकवाद की प्रयोगशाला भी साथ ही साथ पनप कर बनता चला जा रहा है बेशक वह दिन दूर नहीं जब प्रयेग कर सरकारें बदल बदल कर बार बार उम्मीद लगा रही जनता का अंदरूनी आक्रोश फूट पड़े और ये सब्स‍िडी वो सब्स‍िडी , ये कार्ड , वो कार्ड के सारा खेल खत्म होकर गृहयुद्ध भारत देश में छिड़ जाये , विधि‍ की सत्ता पूर्णत: समाप्त हो जाये और लोग सड़कों पर आ जायें , एक दूसरे को खुलेआम लूटने मारने लगें , यह दिन दूर नहीं , इस लिहाज से आज एक ललित मोदी या विजय माल्या पी खा कर उड़ा कर बाहर भागने के रास्ते टटोलता फिर रहे हैं , पता लगे कि सारे ही नेता देश छोड़ छोड़ कर भाग गये , और जनता के पास उन्हें लूटने के लिये भी कुछ नहीं छोड़ गये । मंजर खतरनाक है , सचेत हो जाईये , सब्जबागों के दिखाते चले जाने से किसी के पेट नहीं भरते , हर फिल्म को एक निश्च‍ित वक्त पर समाप्त होना है , भारतवासी भूखे हैं उन्हें रोटी और रोजगार चाहिये , अवसरों की भरमार चाहिये , वरना खत्म हो यह लंबा इंतजार चाहिये ।

सवर्ण गरीबों को भी मिलेगा आरक्षण , राजस्थान सरकार ने आयोग गठित किया , सविधान में संशोधन होगा


story of Delhi ki Killi ( Louh Stambh ) and 3 Gupt Bhairav Chaalisa of Pandavas


ग्वालियर टाइम्स प्रस्तुत करती है, श्री भैरव जी के दूसरे एवं तीसरे चालीसा के साथ सुनिये व देख लीजिये कैसे बनी इंद्रप्रस्थ से दिल्ली , कैसे इंद्रप्रस्थ नाम पड़ा दिल्ली , और किसे गाड़ी , कब व कैसे , क्यों गाड़ी दिल्ली में मंत्रित किल्ली , क्यों हो गई किल्ली ढिल्ली , मंत्रित किल्ली ढिल्ली होने का क्या हुआ ज्योतषीय व तांत्रिक असर , दोबारा फिर गाड़ी गई किल्ली , क्या होगा असर दोबारा किल्ली गाड़ने का , इसके साथ ही सुनिये पांडवों के भैरव जी के चालीसे , जानिये पांडव अर्जुन के वंशजों और तोमर राजवंश के बारे में , जानिये परमवीर दिल्लीपति महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर के बारे में , जानिये महाभारत का और इंद्रप्रस्थ का भौगोलिक नक्शा, तोमर राजवंश की कुल देवी मॉं महाकाली कामाख्या भवानी योगेश्वरी योगमाया ( चिल्हासन , चिलाय माता) और उनके पुत्र री बटुक भैरव यानि काशी के कोतवाल के बारे में सुनिये उनके चालीसे
स्वर व उच्चारण – नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”
ग्वालियर टाइम्स प्रस्तुत करती है
Presented By Gwalior Times
http://m.facebook.com/ Tomarrajvansh/
गुगल प्लस , ट्वि‍टर तथा लिंकइन पर भी यह वीडियो फिल्म उपलब्ध है

%d bloggers like this: