मुरैना में एक वरिष्ठ पत्रकार और समाजसेवी को सैक्स रैकेट में अपने ब्लेकमेलर्स रैकेट में फंसाया ब्लेकमेलिंग रैकेट ने चार व्हाटसएप्प नंबरों से चार बैंक अकाउंट नंबरों से वसूली राशि,लुटे पिटे पत्रकार से मुरैना पुलिस बोली ये सब फर्जी बैंक अकाउंट नंबर हैऔर सारे मोबाइल नंबर भ्ह फर्जी हैं , तुरंत इन सबको चैटिंग रिकार्ड सहित डिलीट कर दो और एफ आई आर मत करवाओं इससे तुम पर ही उलटा क्राइम बनेगा


सारी क्राइम स्टोरी की असज कहानी अभी थोडी देर बाद , रोजाना की तरह मैराथन बिजली कटौती के कारण अंधाधुघ अघोषित बिजली कटौती के कारण इा वक्त यह समाचार अपडे

मुरैना , 17 जून 2021 , ग्वालियर टाइम्स । मुरैना पुलिस की सायबर सेेल और क्राइम ब्रांच की खुद की ही सारी की सारी भूमिका संदिग्ध हो और खुद ही जनता को लूटने तथा ब्लेक मेंलिंग रैकेट की सरगना की भूमिका में होंं तो जाहिर है कि न तो आपकी एफ आई आर ही कायम की जायेगी और वहां एकदम उल्टे ही सलाह आपको दी जायेगी ।

ऐसा केवल एकाध मामले में ही नहीं हुआ बल्कि 80 फीसदी मामलों में हुआ , जो भी सायबर क्राइम या ब्लेकमेलिंग का मामला दर्ज कराने गया , मुरैना पुलिस ने उसकी एफ आई आर दर्ज ही नहीं की और उल्टे उसे ही डरा धमका कर भगाया गया , कहा गया इससे तुम ही अपराधी बन जाओगे, जल्दी से तुम अपने फोन से इसका सारा रिकार्ड डिलीट कर दो । हालांकि उन लोगो ने न तो कोई भी रिकार्ड या किसी भीचीज से छेड़खानी की और सब कुछ ज्यो का त्यों रखते हुये ही , मामला सीधे आनलाइन गुह मंत्रालय भारत सरकार के नेशनल क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर दर्ज करा दिये ।

उक्त सारे प्रकरण से इतना तो लगभग साफ ही है कि सारे मामले की सुई केवल लोकल पुलिस के इर्द गिर्द ही घूमती है , मजे की बात यह भी है कि इस प्रकार के सारे प्रकरण केवल ग्वालियर चम्बल संभाग में हुये हैं , अन्यत्र देश में कहीं भी नहीं , इस सेक्स रैकेट के गिरोह सदस्य लोकल पुलिस में ही मौजूद हैं , और वह लड़की जो पूर्ण नंगी होकर सेक्स क्रिया और हस्तमैथुन कर अपने स्तनों को मसलती और सहलाती है यह पुलिस की ही कोई कर्मचारी है या उनके लोकल पुलिस माफिया द्वारा पाली पालतू कोई वैश्या है , जिसका समय पर इस्तेमाल किया जाता है । अभी इसी अंक में ही यह जारी रहेगी ……. इसी अंक में ही यह पूरी क्राइम स्टोरी संपूर्ण की जायेगी ……..

%d bloggers like this: