मुरैना का सीवर लाइन घोटाला प्रधानमंत्री कार्यालय भारत सरकार में दर्ज


अंतत: मुरैना का सीवर लाइन घोटाला प्रधानमंत्री कार्यालय भारत सरकार में पहुँचा , म.प्र. सी.एम. हेल्‍पलाइन की भी दो नंबर के काम और फर्जीवाड़े की भी श‍िकायत दर्ज, रजिस्‍टर्ड हुई श‍िकायत , म.प्र. सरकार बल्‍लभ भवन सचिवालय म.प्र. शासन को कार्यवाही हेतु भेजी …. रिपोर्ट तलब की …. अत्‍यंत गोपनीय कारणों से व हाई प्रोफाइल्‍ड करप्‍शन मैटर होने से हम कंपलैंट का रजिस्‍ट्रेशन नंबर और छायाचित्र नहीं दे रहे

चमत्‍कारी व करिश्‍माई सिन्‍दूर बनाने का तरीका व कामिया सिन्‍दूर को सिद्ध करना


ग्‍वालियर टाइम्‍स की 106 वीं फ‍िल्‍म – कामिया (कामाख्‍या ) सिन्‍दूर को सिद्ध कर करामाती व चमत्‍कारी सिन्‍दूर बनाना एक अत्‍यंत सिद्ध सिन्‍दूर बनाने की अति गुप्‍त विद्या ( प्रोमो ट्रेलर)
इस फिल्‍म को हाई डेफ‍िनेशन ( एच. डी. ) फार्मेट में फुल साइज में सीधे यू ट्यूब पर देखने हेतु निम्‍न लिंक पर क्‍ल‍िक करें

हमारी फिल्‍मों को देखने हेतु हमारे चैनल को सबस्‍क्राइब करें
https://www.youtube.com/c/GwaliortimesIntv
हमारी फिल्‍में नि:शुल्‍क देखने हेतु हमारे निम्‍न पेड चैनल भारत टी.वी. पर सदस्‍यता लेने / सबस्‍क्राइब करने हेतु क्‍ल‍िक करें
https://www.youtube.com/channel/UC_1mid4TYNQvp6morw-aXHQ
Presented By Gwalior Times
http://www.gwaliortimes.in
https://gwaliortimes.wordpress.com
http://gwlmadhya.blogspot.in/
http://gtbharatvani.blogspot.in/
http://morenachambal.blogspot.in/
http://gtvachan.blogspot.in/
http://bhindgt.blogspot.in/
http://gttantra.blogspot.in/
ग्वालियर टाइम्स प्रस्तुत करती है
http://www.gwaliortimes.in
https://facebook.com/Devputrafilms
http://facebook.com/Tomarrajvansh
Twitter: @gwaliortimes , @narendra_singh , @narentomar @tomarrajvansh
अपनी खुद की वेबसाइट का डोमेन खुद ही रजि‍स्‍टर करें , केवल 2 मिनिट में , वेबसाइट की होस्‍टि‍ंग करें केवल 15 मिनिट में …. ग्‍वालियर टाइम्‍स … सबसे पुरानी भरोसेमंद और लंबी रेस की विश्‍वस्‍तरीय विश्‍वसनीय कम्‍पनी के साथ …. निम्‍न लिंक पर क्‍ल‍िक करें … http://gwaliortimeshosting.supersite2.myorderbox.com/hi/

4 मार्च से होलाष्‍टक प्रारंभ होंगें , 12 को होलिका दहन, तंत्र मंत्र सिद्धि का श्रेष्‍ठ योग


04 मार्च से प्रारंभ होंगें होलाष्‍टक , 12 को होलिका दहन, तंत्र मंत्र यंत्र प्रयोग के लिये सर्वश्रेष्‍ठ सिद्धि साधना योग
– नरेन्‍द्र सिंह तोमर ”आनन्‍द”
ग्‍वालियर टाइम्‍स , 1 मार्च 2017 । 02 मार्च को सर्वार्थ सिद्धि योग रहेगा , 04 मार्च को होलाष्‍टक प्रारंभ होगें , प्रात: 6 बज कर 10 मिनिट के बाद इस बार होलाष्‍टकों के लिये सर्वोत्‍तम योग महूर्त हैं , होलाष्‍टक की शुरूआत के दिन ही सर्वाथ सिद्धि योग एवं अमृत सिद्धि योग रहेंगें , ज्ञातव्‍य एवं स्‍मरणीय है कि तंत्र मंत्र यंत्र एवं अनुष्‍ठान आदि , अभि‍चारादि कर्म करने या उनको हटाने , पलटने, काटने, उतारे व उसारे आदि के लिये होलाष्‍टक से लेकर होलिका दहन के दिन व रात्रि का प्रयोग किया जाता है ।
होलाष्‍टकों के दरम्‍यान ही 09 फरवरी 2017 को तीन मुख्‍य महत्‍वपूर्ण सिद्धि योग एक साथ पड़ेंगें , इस दिन गुरू पुष्‍य नक्षत्र राज सिद्धि योग , सर्वार्थ सिद्धि योग एवं अमृत सिद्धि योग एक साथ रहेंगें , इस लिहाज से इस बार ये होलाष्‍टक सम्‍पूर्ण सिद्धि व साधना हेतु उपयुक्‍त एवं अति दुर्लभ हैं ।
होलाष्‍टकों की पूर्ण आहूति होलिका दहन की अकाटय दहन मूहूर्त ( संपूर्ण दिन व संपूर्ण रात्रि) पर होगी ।
जो लोग तंत्र मंत्र यंत्रादि के जानकार नहीं हैं , वे 04 मार्च से होलिका दहन दिनांक 12 मार्च 2017 तक अपने स्‍तर पर विशेष सावधानियां रखें , इस वक्‍त तमाम प्रकार के अनुष्‍ठान व तंत्र क्रियायें आदि संपन्‍न की जातीं हैं , एवं उतारे व उसारे आदि किये जाते हैं , काट, पलट , उलट आदि क्रियायें व नवीन तंत्र मंत्र यंत्र प्रयोग किये जाते हैं, लिहाजा तिराहों चौराहों से देख कर व बचकर गुजरें, इसके अलावा अपने घर , दूकान व व्‍यापार , व्‍यवसाय की विशेष सावधानी , स्‍वयं की विशेष रक्षात्‍मक उपाय करें व स्‍वयं को बचायें ।
इसके ठीक बाद ही चैत्र नवरात्रि के प्रयोग व अनुष्‍ठान आदि चलेंगें , लिहाजा इस पूरी अवधि‍ के दौरान मुकम्‍मल सावधानी रखें ।

भारत की वंशावली और भारत के राजवंश


फिल्‍म प्रस्‍तुति – भारत की वंशावली , भारत के राजवंश और भारत का प्रमाण‍िक असल इतिहास ( विश्‍वस्‍तरीय प्रसारण )
हमारी फिल्‍म में देखें व सुनें फिल्‍म भारत का भाग – 8 , इस फिल्‍म में जानिये भारत के राजवंश और उनकी वंशावलियां एवं भारत का असल इतिहास , विस्‍तृत व संपूर्ण वंशावली – चन्‍द्र वश (भाग- 2)
प्रस्‍तुत है फिल्‍म का यह भाग, यह इस फिल्‍म का यह भाग क्षत्रिय राजपुत्र परिवारों की गरीबी व बेरोजगारी के दृष्‍ट‍िगत रखते केवल 15 दिन तक यू ट्यूब पर नि:शुल्‍क देखी व डाउनलोड की जा सकेगी , उसके उपरान्‍त इस फिल्‍म के इस भाग को शुल्‍क भुगतान कर देखा एवं डाउनलोड किया जा सकेगा ।
यू ट्यूब पर सीधे इस फिल्‍म को देखने हेतु निम्‍न लिंक पर क्‍ल‍िक करें

हमारी फिल्‍मों को देखने हेतु हमारे चैनल को सबस्‍क्राइब करें
https://www.youtube.com/c/GwaliortimesIntv
Presented By Gwalior Times
https://gwaliortimes.wordpress.com
http://gwlmadhya.blogspot.in/
http://gtbharatvani.blogspot.in/
http://morenachambal.blogspot.in/
http://gtvachan.blogspot.in/
http://bhindgt.blogspot.in/
http://gttantra.blogspot.in/
ग्वालियर टाइम्स प्रस्तुत करती है
https://facebook.com/Devputrafilms
http://facebook.com/Tomarrajvansh
Twitter: @gwaliortimes , @narendra_singh , @narentomar

बार काउंसिल के विवादित नियमों व फैसलों पर हाई कोर्ट का स्टे , हाईकोर्ट ने कहा नॉन प्रेक्ट‍िशनर्स एडवोकेटस भी बार के चुनावों में मतदाता हैं


state-bar-council-high-court-stay

ग्वालियर टाइम्स के सी. ई. ओ. नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” को गूगल इंकारपोरेशन ने गूगल मैप के लिये अपना लोकल गाइड नियुक्त किया


देवपुत्र पायवेट लिमिटेड ग्रुप ऑफ कम्पनीज के मैनेजिंग डायरेक्टर एवं लीगल एडवाइजर, चम्बल की आवाज तथा ग्वालियर टाइम्स के सी. ई. ओ. नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” को गूगल मैप्स इंकारपोरेशन ने गूगल मैप के लिये अपना लोकल गाइड बनाया

नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” को गूगल ( इन्कार्पोरेशन ) कम्पनी ने स्थानीय गाइड नियुक्त किया , सभी स्थानीय फोटो , थ्री डी फोटो , वीडियो सहित , उसका नाम , इतिहास , और पृष्ठभूमि , विचार, सतर्कता , सावधानियां सहित सभी प्रकार के व्यू और रिव्यू लिखने के सर्वाध‍िकार कम्पनी ने तोमर को सौंपें
ग्वालियर / मुरैना 19 जुलाई 2016 । गूगल कम्पनी ने अपने बहुत बड़े व संपूर्ण विश्व तक फैले महात्वाकांक्षी प्रोजेक्ट ” गूगल मैप ” के लिय मुरैना के गांधी कालोनी के विख्यात व प्रसिद्ध समाजसेवी एवं पुराने अति अनुभवी नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”’ को अपना लोकल गाइड नियुक्त किया है ।
नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” को गूगल की ओर से नियुक्त‍ि पत्र प्राप्त हो गया है , साथ ही गूगल ने बहुत बड़ा काम करने जा रहे श्री तोमर को बहुत बड़ा अवार्ड देने की भी घोषणा की है ।
नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” अब न केवल किसी व्यक्त‍ि विशेष पर बल्क‍ि स्थल विशेष पर भी गूगल की ओर से काम करेंगें , किसी स्थल विशेष या व्यक्त‍ि विशेष को गूगल मैप में जोड़ सकेंगें, फर्जी या असत्य को हटा व डिलीट कर सकेंगें , लापता भवनों को तलाश सकेंगें, ऐतिहासिक स्थलों , किसी भी औद्योगिक प्रतिष्ठान, व्यवसाय , होटल , खानपान, लॉजिंग , मंदिर , मस्जिद , चर्च , ढाबा अदि को चिह्न‍ित कर सकेंगें , उस पर ब्यौरा दजकर सकेंगें , उसे गेड दे सकंगें , डी ग्रेड कर सकेंगें ।
इसके अलावा किसी भी फोटो , वीडियो , थ्री डी वीड‍ियो या थ्री डी फोटो को गूगल मैप पर अपलोड कर सकेंगें , सभी ऐतिहासिक प्रृष्ठभूमि के स्थल अपलोड कर सकेंगें उनके इतिहास व ब्यौरे लिखें सकेंगें , स्थानीय स्कूलों , कालोजों के, चिकित्सा सुविधाओं, पेट्रोल पम्पों , सार्वजनिक सुविधाओं, होटलों आदि के नाम , चित्र वीडियो ब्यौरे ग्रेड , डीग्रेड , व्यू , रिव्यू लिख सकेंगें , जोड सकेंगें , हटा सकेंगें , किसी हस्ती विशेष , व्यक्त‍ि विशेष , युग पुरूष व ऐतिहासिक व्यक्तित्व पर ब्यौरा चित्र वीडियो आदि जोड़ या हटा या बदल सकेंगें ।
असली सड़कों के , असली भवनों की व असल अधोसंरचना की , नगर के स्तरीय हालात व असल नगरीय हालात व स्थ‍िति के चित्र व वीडियो अपलोड कर सकेंगें , या हटा सकेंगें , संपादन व क्रियेशन , डिलीशन आदि सभी कार्य नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” गूगल मैप की ओर से तथा गूगल कम्पनी की ओर से करेंगें ।
नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द ” ने ग्वालियर चम्बल सहित राजस्थान के लोगों से कहा है कि वे अपने सड़को , बिजली संरचना , अन्य अधोसंरचना आदि के चित्र व वीडियो  आदि भेजते समय अपने कैमरे का जी.पी.एस. इन्फो ऑन रखें और , सारे जी.पी.एस. सूचनाओं की रिकार्डिंग कैमरे को ही करने दें , जिससे आपका फोटो या वीडियो स्वत: आटोमेटिक रूप से जियो टेग हो जायेगा और खुद ब खुद सही जगह गुगल मैप में स्वत: सेट हो जायेगा । अपने चित्र या वीडियो के साथ संपूर्ण ब्यौरा अवश्य भेंजें , उसकी ऐतिहासिक पृष्ठभ्ज्ञूमि अवश्य भेजें , यदि किसी ऐतिहासिक स्थल से संबंधी वीडियो या चित्र भेज रहे हैं तो उसका संदर्भ ग्रंथ , प्रमाण‍िकता सहित संपूर्ण अतिहास व वंशावली आदि अवश्य भेजें ।
चम्बल के लोगों से बिजली , सडक व खेतों की हालत तथा अन्य इन्फ्रा स्ट्रक्चर संबधी वीडियो व चित्र भेजने की अपेक्षा की गयी है , जो गुगल के लोकल गाइड नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” द्वारा गुगल मैप में दर्ज किया गया जायेगा , केवल वही चित्र , वीडियो व ब्यौरा ही संपूर्ण विश्व में दिखेगा ।

Islaami Tantra इस्लामी तंत्र व नक्श सुलेमानी

Film – Yogeshwari ( Part- 2) फिल्म योगेश्वरी ( भाग – 2)


स्त्री पुरूष सम्बन्ध व गुण मिलान , ऋणात्मक व धनात्मक ऊर्जायें एवं कुंडिल‍िनी का शक्त‍ि प्रवाह


स्त्री पुरूष सम्बन्ध व गुण मिलान , ऋणात्मक व धनात्मक ऊर्जायें एवं कुंडिल‍िनी का शक्त‍ि प्रवाह
– नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”
मनुष्य मात्र में या प्राणी मात्र में जिनमें से उन्हें छोड़कर जो कि उभयलिंगी होते हैं जैसे केंचुआ, या अमीबा , पैरामीश‍ियम या अन्य , शेष बाकी सभी में मातृ शक्त‍ि और पितृ शक्त‍ि , तथा तीनों गुण सतो गुण , रजो गुण, तमो गुण मौजूद रहते हैं , प्रत्येक प्राणी मात्र में इन गुणों की यह मात्रा का अनुपात घटा या बढ़ा हुआ रहता है और यह भी कि यह सदैव घटता बढ़ता रहता है , जो हर मनुष्य के आचरण व व्यवहार का निर्धारण व नियंत्रण कर उसके व्यक्त‍ित्व व गुणों के साथ उसके प्रभा मंडल का निर्माण करता है , वैसे सभी प्राणी या सारे मनुष्य भौतिक देह आधार पर एक जैसे ही नजर आते हैं , लेकिन केवल इन गुणों के अनुपात घटते बढ़ने से उनके स्वभाव , आचरण, व्यवहार व कर्म निर्धारित होकर उनके स्वरूप व व्यक्त‍ित्व का निर्माण होता है ।
बेशक यही ध्रुव सत्य है कि जिस पुरूष में जिस अनुपात में पौरूषीय गुण शक्त‍ि तथा सत , रज या तम गुण की जितनी मात्रा होगी , उसके ठीक एकदम विपरीत कम या ज्यादा गुण शक्त‍ि वाली स्त्री स्वत: ही उसकी ओर आकर्ष‍ित व सम्मोहित होकर अनजाने ही उसकी चाहने वाली होगी , यह चाहना किसी भी रूप में या किसी भी हद तक हो सकता है । लोग इसे सभ्यतावश अनेक नाम दे देते हैं ” पसन्द” करना से लेकर बहिन, पत्नी, मेहबूबा, प्रेमिका, या अन्य दीगर किसी प्रकार का अनजान या मित्रता मात्र का गहरा रिश्ता कुछ भी हो किन्तु उनमें स्वाभाविक परस्पर एक अंदरूनी प्रीति व लगाव एवं ख‍िंचाव बना रहेगा ।
मसलन उदाहरण के रूप में यह संभव है कि जिस पुरूष में पौरूषत्व ज्यादा हो , और इसके विपरीत किसी स्त्री में स्त्रीत्व ज्यादा हो तो उनमें स्वाभाविक ही सम्मोहन व आकर्षण हो जायेगा , इसी प्रकार स्त्रीत्व गुणों से संपन्न पुरूष के प्रति पुरूष गुण से संपन्न नारी के बीच स्वाभाविक सम्मोहन , आकर्षण व प्रीति होगी ।
अक्सर जहॉं समलिंगी सम्बन्ध या विवाह होते हैं , वहॉं इन्हीं गुणों व स्वरूपों का करिश्माई कमाल होता है , भगवान शंकर का अर्धनारीश्वर स्वरूप या श्री कृष्ण का या अर्जुन का स्त्रीवेश धारण करना इसे निरूपित व परिभाष‍ित कर इसकी विस्तृत व्याख्या करता है ।
एक नपुंसक लिंग या उभयलिंगी यदि कोई प्राणी शुरूआत में या जन्म से न हो लेकिन वह यदि कुंआरा रहने या ब्रह्मचर्य का व्रत धारण कर ले या समलिंगी सम्बन्ध कर ले या समलिंगीं विवाह कर ले तो , स्त्री पुरूष संबंधों से या तंत्र में भैरवी शक्त‍ि या भैरवी चक्र जागरण के बाद सहस्त्राधार तक कुंडिलिनी शक्त‍ि को ले जाकर ” ऊँ” की प्राप्त‍ि का मार्ग पूरी तरह बदल जाता है और फिर ऐसे मनुष्य के अंदर स्वयं ही दोनों शक्त‍ियां यदि भैरव एवं भैरवी पैदा हो जायें तो ही वह साधना के अंतिम चक्र तक जाकर समाध‍ि अवस्था तक पहुँच पायेगा , अन्यथा विनष्ट होकर उसकी सारी शक्त‍ि ऋणात्मक होकर ऊर्ध्व गति प्रवाह के बजाय अधोगति प्रवाह में होने लगेगी और वह निम्नमनतर गति व ऋणात्मक होता जायेगा , आसुरी तत्व बढ़ते जायेंगें अंतत: अंतिम गति में उसका स्वरूप एवं अगली जन्म निम्न या क्षुद्र या किसी अन्य नीच योनि में होगा और उसे बेशक मनुष्य योनि में पुनर्जन्म लेना संभव नहीं होगा ।
स्त्री पुरूष चाहे वह दांपत्य जीवन में पति पत्नी हों , या प्रेमी प्रेमिका हों , मेहबूब व मेहबूबा हों या लिव इन रिलेशन में हों , उन्हें परस्पर ऊर्जायमान व तेजस्वी होने का अनुभव व अहसास यदि हो अर्थात सकारात्मक या धनात्मक ऊर्जा प्रवाह व समृद्धि , चेतना की परस्पर अनुभूति हो तो ही संबंध या रिश्ता जारी रखना चाहिये , अन्यथा इसके विपरीत यदि किसी भी प्रकार से पारस्परिक संबंधों से ऋणात्मकता या अधोगति या तनाव या चिन्ता या विकारग्रस्तता या खेद या ऋणत्मक ऊर्जा प्रवाह या समृद्धि व चेतना की हीनता या हृास या कमी अनुभव या महसूस हो तो , ऐसे रिश्ते या संबंध तुरंत समाप्त कर देने चाहिये और आगे और ज्यादा होने वाल अधोगति को जारी नहीं रखना चाहिये ।
जन्म कुण्डली मिलान में , वर व वधू की जन्म कुण्डली मिलान करना एक बहुत उत्तम व उचित व्यवस्था है , किन्तु यह पूरी तरह से एक गण‍ितीय व वैज्ञानिक विध‍ि व रीति है , कम ज्ञान वाले या अधूरे ज्ञान वाले या अगण‍ितीय या अवैज्ञाानिक ज्योतिषी से ऐसा जन्म कुण्डली विवाह मिलान नहीं कराना चाहिये । वरना सब कुछ उल्टा पुल्टा हो जायेगा ।
मसलन कुण्डी मिलान में कई गुणों का मिलान किया जाता है , जैसे वर्ण , योनि एवं नाड़ी आदि ….. इनके सबके अपने अपने अर्थ एवं महत्व हैं , कुल मिलाकर जितने गुण मिलान शास्त्रीय रीति से वर वधू के मिलान किये जाते हैं , एक उत्तम गण‍ितज्ञ व वैज्ञानिक ज्योतिषी उससे ज्यादा आगे जाकर अन्य और भी कई गुणों का मिलान कर एक सटीक व उत्तम विवाह मिलान कर सकता है या स्पष्टत: विवाह लिान को रिजेक्ट कर देगा । अत: देख भाल कर चालिये, यही में सबकी खैर , वरना चले थे मोहब्बत करने, पर हो गया उनसे वैर ….. ( विशेष कृपया उन लोगों से विशेष रूप से उनसे सवाधान रहें जो यह गारण्टी देते हैं कि प्रमिका का वशीकरण करा दूंगा , या आकर्षण करा दूंगा, खोया प्रेम पुन: वापस पायें , मनचाही संतान पायें वगैरह , आदमी की खुद की कोई गारण्टी नहीं होती कि आधे घण्टे के भीतर उसके खुद के साथ क्या होने वाला है , लिहाजा दूसरों को चैलेन्ज करके गारण्टी देने वाले खुद को खुदा कहने वाले या हनुमान जी का सिद्ध या किसी अवतार का सिद्ध बताने वाले ढोंगीं पाखण्डीयों से बच कर रहें , हो सकता है , कि आधे घण्टे में कुदरत या खुदा उन्हीं का कुछ और ही अंजाम लिख रही हो अत: अपना धन व समय एवं इज्जत बचा कर रखें , सोच समझ कर ही इसे खर्च करें ) हम नाम नहीं बताना चाहते , कुछ ज्योतषी व तंत्र के विशेषज्ञ हैं , ऐसे लोग भी हैं जो पूरे शहर भर में हमारे यहॉं सबकी जन्म कुण्डलियां बनाते हैं , कुण्डलियां मिलान करते हैं और पूजा पाठ हवन आदि तंत्र क्रियायें करते हैं , लेकिन खुद के लिये , अपने स्वयं के परिवार के लिये या किसी मोटे ग्राहक की कुंडली बनवाने या कुण्डली मिलान करवाने या किसी तंत्र क्रिया या हवन आदि , पूजा पाठ या अनुष्ठान के लिये वे हमारे पास आते हैं और हमसे यह सब करवाते हैं , खैर यह उनका धंधा है , चलता भी खूब है , कमा भी खूब रहे हैं , चाहे कोई बर्बाद हो या आबाद हो , उन्हें बस अपने धंधे के चलने से काम …. खैर यह संसार है , इसी तरह चलता है – नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द”

फिल्म ”योगेश्वरी का पहला भाग , ग्वालियर टाइम्स ने विश्वस्तर पर रिलीज व टेलीकास्ट जारी किया


फिल्म ” योगेश्वरी ” का पहला भाग का विश्वव्यापी प्रसारण , फिल्म की इण्ट्रोडक्ट्री प्रसारित की जा चुकी है , इस फिल्म के खास भाग ” ताजमहल तोमर राजवंश का शिव मंदिर पूरी कथा व कहानी , इंद्रप्रस्थ यानि दिल्ली का पुराना किला और उसकी पूरी कहानी
ग्वालियर टाइम्स । 18 मई 2016 , ग्वालियर टाइम्स द्वारा प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय महत्व की एवं राष्ट्रीय महत्व की ( यूनिसेफ द्वारा सूचीबद्ध एवं शासकीय मान्यता प्राप्त तथा भारत सरकार के एन.जी.ओ. पोर्टल पर उपलब्ध , ( ”वॉयस ऑफ भारत” में संस्था के नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द” की आवाज सेम्पल राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी में सूरक्षित होने का सम्मान प्राप्त ), मुरैना मेला प्रदर्शनी में सन 1993- 94 में प्रदर्शनी का प्रथम पुरूस्कार व सम्मान प्राप्त स्वयंसेवी संस्था ”नेशनल नोबल यूथ अकादमी” तथा ”देवपुत्र फिल्म्स, एडवर्टाइजिंग एंड सीरियल्स निर्माण ” कंपनी        (देवपुत्र प्रायवेट लिमिटेड ग्रुप ऑफ कम्पनीज की एक सब्स‍िडियरीज कंपनी – रजिस्टर्उ अंडर कंपनीज एक्ट – 1956) के तहत निर्माण की गयी फिल्म सतयुग, त्रेता काल , द्वापर काल से लेकर कलयुग में आज दिनांक तक , ” योगेश्वरी” के नाम से निर्मित फिल्म का प्रसारण इसी हफ्ते से विश्व स्तर पर शुरू किया जायेगा , इस हफ्ते पहला भाग दिखाया जायेगा , फिल्म के पहले भाग में महाभारत के पराक्रमी योद्धा अर्जुन की मॉं कुन्ती के मातृ निवास राज्य ”कुंतलपुर की पहली फिल्म दिखाई जायेगी , जिसमें योगेश्वरी के कुतलपुर में हरसिद्धि के रूप में विराजित होने और महाभारत के मैदान में पांडवों को विजय दिलाने की फिल्म व कहानी दिखाई जायेगी । फिल्म के दूसरे भाग में भी यह कहानी व यह फिल्म जारी रहेगी, फिल्म के तीसरे भाग में कुतलपुर के ही ”कुंती के शंकर जी की मंदिर , दुर्वासा मुनि की तप स्थली, एवं वह स्थल जहॉं आसन नदी में सूर्य का रथ एवं घोड़े उतरे , कर्ण का जन्म हुआ, कर्णखार से लेकर उस स्थल पर की विस्तृत फिल्म …. इसी प्रकार यह फिल्म योगेश्वरी अपनी पूर्ण कथा के साथ आगे बढ़ते , ग्वालियर किले के मंदिरों, मितावली के चौंसठ योगनी मंदिर, बटेसुरा के मंदिरों व पढ़ावली मंदिरों के रहस्यों , ककनमठ के मंदिर, पांडवों के राजवंश में देवीयों और अप्सराओं का पत्नी के रूप में रहना व वंश संचालन, देवी का का विध्यवासिनी के रूप में नाम व धाम , 52 शक्त‍ि पीठों , भैरव – भैरवियों , योगीयों – योगनियों , यक्ष – यक्षणियों, भूत प्रेत , शाकिनी डाकिनी , देवी के भेदों , देवी रहस्यों , दस महाविद्या भेद , स्त्री भेदों , स्त्रीयों में यक्षणीयों , योगनियों , आदि विभ‍िन्न स्वरूपों से गुजरती हुई , ऐसाह गढ़ी , दिल्लीपति महाभारत सम्राट महाराजा अनंगपाल सिंह तोमर द्वारा निर्मित मंदिर भगेसुरी ( भगेश्वरी) , भवेसुरी ( भवेश्वरी) , ऐसाहगढ़ी में कामाख्या के रूप में चम्बल नदी का स्वरूप धारण कर भगेसुरी माता के सेटेलाइट चित्र , दिल्ली में इंद्रप्रस्थ के किले में पांडवों द्वारा बनवाये गये योगमाया , योगमाता मंदिर, से लेकर वर्तमान में माता बीजासेन तक की कहानी व मंदिर फिल्म में दिखायें जायेंगें । इस बीच में इस फिल्म ”योगेश्वरी” के प्रसारण के दौरान , बीच बीच में अन्य सामायिक व सामाजिक फिल्में या शासकीय ब्राडकास्टेड व टेलीकास्टेड फिल्मों का प्रसारण जारी रहेगा । अत: फिल्म ‘ योगेश्वरी” के बीच बीच में , अन्य फिल्में भी प्रसारित होंगीं । फिल्म योगेश्वरी की आधी शूटिंग पूर्ण हो चुकी है और पहला भाग एडिटिंग की प्रक्रिया से गुजर रहा है , फिल्म एच.डी. कैमरे से शूट की गयी है , फिल्म की कैमरा सांचालन टीम व छायांकन व फिल्मांकन ” मुरैना के विख्यात कैमरामैन ”अजय सोनी” और दीपक राजौरिया ने किया है , डायरेक्शन स्क्रिप्ट आदि नरेन्द्र सिंह तोमर ”आनन्द एवं विनोद दुबे ने किया है
अगली फिल्म की तैयारी – ग्वालियर टाइम्स द्वारा इसके साथ ही अगली फिल्म बनाने की तैयारी भी शुरू कर दी है – फिल्म का नाम होगा ” ….. ” यह फिल्म भारत की आखरी विश्व सत्ता पर आधारित होगी और मक्का मदीना का असल रहस्य व असल कथा , असल इतिहास व असल कहानी , अजमेर की दरगाह का रहस्य सहित अरब में तोमर राजपूतों की सत्ता के साक्ष्य , भगवान जगन्नाथ का मंदिर और उसकी ध्वज पताका का रहस्य, इसमें कई राजवंशों के व राजपूतों के असल भेद, वंश व उनके राज्य क्षेत्र उजागर किये जायेंगें , दोनों ही फिल्में भारत के असल व सनातन प्राचीन ग्रंथों , शास्त्रों एवं वंशावलियों पर आधारित हैं । जो लोग हमारी इस प्रोजेक्ट टीम में किसी भी रूप में जुड़ना चाहें वे हमसे नीचे दिये चित्र में पतों पर संपर्क कर सकते हैं । फायनेन्सरों एवं फिल्म लाइन के अनुभवियों , आदि काल से लिख रहे परंपरागत वंशावली लेखकों , प्राचीन ग्रंथों व शास्त्रों के विशेषज्ञों , का सुस्वागतम है , इतिहासकारों का प्राचीन ग्रंथों , शास्त्रों, वंशावलियों के मुताबिक इतिहास लेखकों का स्वागत है , किसी भी फर्जी इतिहास लेखक , या काल्पनिक मनगढन्त इतिहास लिखने वाले कृपया भूलकर भी हमसे संपर्क न करें , तदनुसार फर्जी राजा , महाराजा , मुगलों एवं अंग्रेजों के गुलाम व दास तथाकथ‍ित राजा महाराजा , गवर्नर , लाट साहब , पटेल , राव साहब , राय साहब ऐसे लोग जिन्हें भारत के इतिहास , ग्रंथ , शास्त्र एवं वंशावलियां मान्यता नहीं देते एवं उनका अनुसमर्थन नहीं करते , या वर्ष सन 1193 – 1194 के बाद के अचानक बने काल्पनिक राजा महाराजा कृपया कतई संपर्क नहीं करें , चूंकि फिल्में पूर्णत: शत प्रतिशत शुद्ध विशुद्ध भारत के इतिहास , ग्रंथों एवं शास्त्रों पर आधारित हैं अत: अशुद्धता, काल्पनिकता या मनगढन्तता के लिये इनमें कोई स्थान नहीं है । ” ये फिल्में ”जो है सो है , जो जैसा है सो जैसा और वैसा है” पर आधारित हैं एवं इनमें सभी कुछ यथावत रखा जा रहा है । हम उम्मीद करते हैं कि आप हमारी , भारत की भावना को पूर्णत: समझेंगें और उसका सम्मान करेंगें । कल के सम्राटों के वंशज आज भले ही खेत जोत रहे या मजदूरी कर रहे गरीब और भुखमरी में जी रहे हों , हमारी फिल्में उनके उस भव्य इतिहास और उन्हें किसने व कैसे लूटा , कैसे गरीब बनाया , कैसे भुखमरी में धकेला , इस अंाम तक यानि भारत की आज की कहानी तक चल कर आयेंगीं , इसलिये हमने इनको दो अलग अलग फिल्मों में बनाना सुनिश्च‍ित किया है ।
– नरेन्द्र सिंह तोमर ” आनन्द”

« Older entries

%d bloggers like this: